Saturday , December 3 2022
Home / जीवनशैली / जाने प्रोस्‍टेट कैंसर के शुरुआती संकेतों के बारे में..

जाने प्रोस्‍टेट कैंसर के शुरुआती संकेतों के बारे में..

प्रोस्‍टेट कैंसर आज के समय में तेजी से फैलने वाली बीमारी बन चुका है। जी हाँ और इस कैंसर से सबसे ज्यादा पुरुष प्रभावित होते हैं। यह पुरुषों के कैंसर के नाम से भी जाना जाता है। जी हाँ और पहले ये कैंसर केवल अधिक उम्र के पुरुषों को शिकार बनाता था हालाँकि पिछले कुछ सालों में युवाओं में भी इसके लक्षण देखने में मिल रहे हैं। जी हाँ और ऐसा कहा जा रहा है कि शुरुआत में इसके लक्षणों को पहचान पाना मुश्किल होता है और यही वजह है कि ये कैंसर कई बार लास्‍ट स्‍टेज पर पता चलता है। प्रोस्‍टेट कैंसर खतरनाक है, जिसका सही ट्रीटमेंट न मिलने पर जान चली जाती है। आपको बता दें कि इस कैंसर में पुरुषों को बैठने, चलने और यूरिन करने में परेशानी आती है। प्रोस्‍टेट कैंसर का पता नियमित चेकअप से लगाया जाता है और इसके लिए स्क्रीनिंग का सहारा लिया जा सकता है। अब हम आपको बताते हैं प्रोस्‍टेट कैंसर के शुरुआती संकेतों के बारे में। क्‍या है प्रोस्‍टेट कैंसर?- प्रोस्‍टेट कैंसर प्रोस्‍टेट ग्रंथि में होता है जो केवल पुरुषों में पाई जाती है। जी हाँ और ये ग्रंथि कुछ लिक्विड सब्‍सटेंस का उत्‍पादन करती है, जो स्‍पर्म बनने में मदद करते हैं। प्रोस्‍टेट कैंसर काफी तेजी से फैलता है। प्रोस्‍टेट पुरुषों में एक गोलाकार ग्रंथि होती है, जो ब्‍लेडर के ठीक नीचे होती है। जिस समय ये ग्रंथि ठीक प्रकार से काम नहीं करती तो कोशिकाएं आपस में चिपक जाती हैं, जो कैंसर का कारण बन सकती हैं। प्रोस्‍टेट कैंसर के लक्षणों को पहचान पाना मुश्किल होता है। * आपको बता दें कि प्रोस्‍टेट कैंसर शरीर के किसी भी हिस्‍से में फैल सकता है। ये कैंसर प्रोस्‍टेट ग्रंथि के अलावा बॉवल में भी फैल सकता है। जी हाँ और कैंसर सबसे पहले मलाशय में फैलता है। जी दरअसल यह आंत का वह हिस्‍सा होता है जो प्रोस्‍टेट ग्रंथि के सबसे करीब होता है। इसमें पेट दर्द, कब्‍ज और मल में ब्‍लड जैसे लक्षण देखे जा सकते हैं। * इसके अलावा बड़े आकार का प्रोस्‍टेट ट्यूमर ब्‍लैडर और यूरिनरी पर दबाव डाल सकता है। जी हाँ और ट्यूमर जब यूरिनरी ग्‍लेंड पर दबाव डालता है तो यूरिन करने में परेशानी आ सकती है। इस वजह से अधिक यूरिन आना, यूरिन में ब्‍लड और यूरिन न कर पाना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। * इसके अलावा कैंसर बढ़ने पर ट्यूमर रीढ़ की हड्डी पर दबाव डाल सकता है, जिस वजह से पैरों में दर्द, झनझनाहट या सूजन हो सकती है। * इसके अलावा प्रोस्‍टेट कैंसर के फैलने से सबसे ज्‍यादा प्रभाव बैक और हिप पर पड़ता है। जिस समय ये कैंसर फैलता है तो रीढ़ की हड्डी में मौजूद कोशिकाओं को डैमेज करना शुरू कर देता है जिस वजह से बैक और हिप पेन बढ़ जाता है।