Wednesday , April 17 2024
Home / Uncategorized / गाजा पर जमीनी हमले की तैयारी कर रहा इजरायल,बुलेटप्रूफ जैकेटों की हुई कमी

गाजा पर जमीनी हमले की तैयारी कर रहा इजरायल,बुलेटप्रूफ जैकेटों की हुई कमी

इजरायल और हमास के बीच युद्ध लगातार बढ़ता जा रहा है। इस युद्ध में अब तक कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। इजरायल जल्द ही गाजा पर जमीनी हमले की तैयारी कर रहा है। जिसे देखते हुए बुलेटप्रूफ जैकेट की मांग भी तेज हो गई है लेकिन बुलेटप्रूफ जैकेट की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

इजरायल और हमास के बीच युद्ध लगातार बढ़ता जा रहा है। इस युद्ध में अब तक कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। इजरायल जल्द ही गाजा पर जमीनी हमले (ground offensive on Gaza ) की तैयारी कर रहा है। जिसे देखते हुए बुलेटप्रूफ जैकेट की मांग भी तेज हो गई है लेकिन बुलेटप्रूफ जैकेट की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने वाली एक इजरायली कंपनी ने एएनआई को मौजूदा स्थिति के बारे में बताया, जिसमें कहा गया कि बुलेटप्रूफ निर्माता कंपनियां मौजूदा मांग को पूरा करने में असमर्थ हैं।

पूरा देश युद्ध प्रयासों में लगा हुआ है- डोटन

एएनआई से बात करते हुए, योव डोटन ने कहा, अभी देश पूरी तरह से जुटा हुआ है। पूरा देश युद्ध प्रयासों के प्रति लामबंद है। आपातकालीन डिग्री के तहत पुरुषों और महिलाओं को सेना में शामिल किया गया है। उनके पास पर्याप्त उपकरण नहीं हैं, लेकिन धीरे-धीरे सभी इकाइयों तक उपकरण पहुंच रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा, न केवल सेना रिजर्व को उपकरण की जरूरत है जो इसका हिस्सा बुलेटप्रूफ फेस्ट या हेलमेट है, बल्कि शहरों की सुरक्षा करने वाले नागरिक बुनियादी ढांचे की भी जरूरत है। इसलिए बहुत अधिक है। कई निर्माता हैं…लेकिन अभी मांग बहुत अधिक है।

इरजरायल कर रहा अस्तित्व के लिए युद्ध की तैयारी

उन्होंने आगे कहा कि इजरायल इसे “अस्तित्व के लिए युद्ध” बताते हुए “बहुत आगे की राह” की तैयारी कर रहा है।

उन्होंने कहा कि अभी, देश बहुत आगे की लंबी राह के लिए तैयारी कर रहा है… यह निश्चित रूप से अस्तित्व के लिए, अपनी यहूदी मातृभूमि के अधिकार के लिए एक युद्ध है… 1948 के बाद से, यह इज़राइल के लोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण समय है।

इजरायल में लगभग हर नागरिक अपने साथ पूरे परिवार के लिए बुलेटप्रूफ जैकेट रखता है क्योंकि यह देश अपनी भौगोलिक स्थिति के कारण हमेशा अपने ‘दुश्मनों’ से घिरा रहता है।

डोटन ने यह भी कहा कि देश को विभिन्न वर्गों से मदद मिल रही है और उन्होंने इस दौरान इजरायल का समर्थन करने के लिए भारत को धन्यवाद भी दिया।

डोटन ने कहा, हमें दान मिल रहा है और दुनिया के विभिन्न हिस्सों से बहुत कुछ आ रहा है। सैनिकों के लिए भोजन, मोजे, उन्हें सुरक्षित रखने के लिए घर पर लोगों का होना…हर कोई कुछ न कुछ कर रहा है, हर कोई कुछ न कुछ करना चाहता है।

इजरायल ने 3 लाख रिजर्व सेना को बुलाया

उन्होंने कहा, दुनिया भर से हमारे सभी दोस्तों से आपूर्ति आ रही है, खासकर भारत से… मैं अपने भारतीय दोस्तों को सिर्फ युद्ध से पहले ही नहीं, बल्कि दोनों देशों के बीच मौजूद अच्छे संबंधों के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। हम याद रखेंगे कि जरूरत के समय कौन हमारे साथ खड़ा था।

इस बीच इजरायली सेना ने इस युद्ध को लड़ने के लिए 3,00,000 रिजर्व सेना को बुलाया है और उनमें से प्रत्येक को वो सभी सुरक्षा कवच प्रदान किए गए हैं जो एक सैनिक को मिलते हैं।

इससे पहले, IDF के प्रवक्ता, मार्कस शेफ ने एएनआई को बताया कि आईडीएफ ने इजरायली आबादी की सुरक्षा के लिए अपनी तैयारी और क्षमता को मजबूत करने के लिए 3,00,000 से अधिक कर्मियों को बुलाकर रिजर्व जुटाया है।

विशेष रूप से, आरक्षित बल वे कर्मी होते हैं जिन्हें हथियारों के नीचे नहीं रखा जाता है और उन्हें आपातकालीन स्थितियों के दौरान बुलाया जाता है, जब सेना को अतिरिक्त जनशक्ति की आवश्यकता होती है।