Sunday , April 21 2024
Home / Uncategorized / दिल्ली वायु प्रदूषण: दशहरा पर दिखी दिल्ली में प्रदूषण की चादर, जानिये क्यों?

दिल्ली वायु प्रदूषण: दशहरा पर दिखी दिल्ली में प्रदूषण की चादर, जानिये क्यों?

राजधानी दिल्ली समेत एनसीआर में हवा की गति तेज होने से वायु गुणवत्ता में सुधार हुआ है। लेकिन मंगलवार सुबह को वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 303 दर्ज किया है। एक्यूआई को 301-400 के बीच ‘बहुत खराब’ माना जाता है।

देश की राजधानी दिल्ली में मौसम ठंडा होने के साथ ही प्रदूषण का प्रभाव भी बढ़ने लगा है। जिसका असर दिल्ली ही नहीं नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद तक दिख रहा है। मंगलवार सुबह को दिल्ली के कई इलाकों में वायु प्रदूषण से हवा बहुत खराब हो गई है। मिली जानकारी के मुताबिक, सफर इंडिया ने बताया कि दिल्ली में वायु प्रदूषण लगातार बहुत खराब श्रेणी में है। मंगलावार को धौला कुंआ में एक्यूआई 303 दर्ज किया गया। 

सोमवार को दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 263 दर्ज हुआ। जोकि खराब श्रेणी में रहा। वहीं, रविवार के मुकाबले 50 सूचकांक में कमी आई थी। तीन इलाके में हवा बेहद खराब और 27 में खराब श्रेणी में रही। साथ ही, एनसीआर में ग्रेटर नोएडा का वायु गुणवत्ता सर्वाधिक रहा, जबकि गुरुग्राम का सबसे कम दर्ज किया गया।

दिल्ली की हवा समग्र रूप से हवा बेहद खराब दर्ज की गई। सुबह के समय स्मॉग रहा, जोकि धूप निकलने के बाद कम हो गया। कमोबेश यही स्थिति पूरे सप्ताह बने रहने का अनुमान है। विशेषज्ञों के अनुसार हवा की दिशा व गति बदलने से स्मॉग छा रहा है। वहीं, पराली का धुआं अब और परेशान करेगा। बता दें दिल्ली में ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रैप) का दूसरा चरण लागू है।

आज से और खराब हो सकती है दिल्ली की हवा
भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान (आईआईटीएम) के मुताबिक सोमवार को हवाएं उत्तर-पूर्वी व उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर से चली। इस दौरान हवा की गति 4 से 12 किलोमीटर प्रतिघंटे से रही। मंगलवार को हवाएं उत्तर-पूर्वी दिशाओं से चलने का अनुमान है। हवा की गति 4 से 16 किलोमीटर प्रतिघंटे से चलेंगी। 

वहीं, सुबह के समय धुंध छाए रहने का भी अनुमान है। इस दौरान हवा बेहद खराब श्रेणी में रहने का अनुमान है। साथ ही बुधवार को भी हवाएं उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर से चलेंगी। हवा की चाल 8 से 16 किलोमीटर प्रतिघंटे रहने का अनुमान है। सफर इंडिया के मुताबिक सोमवार को दिल्ली में पीएम 2.5 की मात्रा लगभग 124 दर्ज की गई, जोकि खराब श्रेणी में है। वहीं, पीएम 10 की मात्रा करीब 215 दर्ज की गई।

ग्रेटर नोएडा में सबसे प्रदूषित रही हवा
सीपीसीबी के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में ग्रेटर नोएडा का सबसे अधिक वायु गुणवत्ता सूचकांक दर्ज किया गया। यहां एक्यूआई 299 रहा, जोकि खराब श्रेणी है। वहीं, फरीदाबाद में 256, दिल्ली में 263, नोएडा में 229, गाजियाबाद में 220 व गुरुग्राम में 182 एक्यूआई दर्ज किया गया।