Saturday , March 2 2024
Home / देश-विदेश / ‘पर्ड्यू में भारतीय-अमेरिकी छात्र ने खुद को गोली मारकर दी थी जान!

‘पर्ड्यू में भारतीय-अमेरिकी छात्र ने खुद को गोली मारकर दी थी जान!

अधिकारी का कहना है कि समीर कामथ की मौत सिर में गोली लगने की वजह से हुई है। यह आत्महत्या का मामला है। हालांकि,अभी एक और रिपोर्ट इस मामले में सामने आनी है।

अमेरिका में भारतीय छात्रों को लगातार निशाना बनाया जा रहा है। इस बीच, इंडियाना राज्य में स्थित प्रतिष्ठित पर्ड्यू विश्वविद्यालय में डॉक्टरेट की पढ़ाई कर रहा एक भारतीय छात्र इस हफ्ते मृत पाया गया था। इस मामले में एक नया मोड़ सामने आया है। अधिकारियों ने बताया कि छात्र ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या की है। उसके सिर में गोली लगी है।

पर्ड्यू विश्वविद्यालय की एक समाचार एजेंसी के अनुसार, समीर कामथ को पांच फरवरी की शाम करीब पांच बजे मृत पाया गया था। उनका शव विश्वविद्यालय के क्रो ग्रोव में NICHES भूमि ट्रस्ट पर मिला था, जो एक प्रकृति संरक्षित क्षेत्र है। वॉरेन काउंटी के कोरोनर जस्टिन ब्रुमेट ने बुधवार को बताया था कि इंडियाना के क्रॉफर्ड्सविले में छह फरवरी को कामथ का फोरेंसिक पोस्टमार्टम किया गया था।

ब्रुमेट के कार्यालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि कामथ की मौत सिर में गोली लगने की वजह से हुई है। यह आत्महत्या का मामला है। उसने खुद को गोली मारी है। हालांकि, एक रिपोर्ट इस मामले में अभी और सामने आनी है।

इन्होंने की जांच
विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘कई अन्य स्थानीय और संघीय एजेंसियों के साथ मिलकर जांच की गई है। इससे मौत का कारण साफ है। कामथ की मौत के कारण के बारे में जानकारी सार्वजनिक करने से पहले उसके परिवार को बता दिया गया था। जांच वॉरेन काउंटी कोरोनर कार्यालय, वॉरेन काउंटी शेरिफ कार्यालय, पर्ड्यू विश्वविद्यालय प्रशासन और अन्य सहायक एजेंसियों के साथ की जा रही है।

ब्रुमेट ने कहा, ‘हमारी गहरी सहानुभूति और संवेदनाएं परिवार के साथ हैं।’

डॉक्टरेट की उपाधि मिलने वाली थी
वहीं, मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख एकहार्ड ग्रोल के अनुसार, छात्र समीर कामथ मैसाचुसेट्स के रहने वाले थे और उन्होंने मैसाचुसेट्स एमहर्स्ट विश्वविद्यालय से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल की थी और 2021 में पर्ड्यू विश्वविद्यालय में एडमिशन लिया था। यहां से वो मैकेनिकल इंजीनियरिंग में मास्टर्स की पढ़ाई कर रहे थे। उसे 2025 में डॉक्टरेट की उपाधि मिलनी थी।