Wednesday , April 17 2024
Home / बाजार / जून में आरबीआई की बैठक में रेपो रेट में हो सकती है कटौती

जून में आरबीआई की बैठक में रेपो रेट में हो सकती है कटौती

अब वरिष्ठ नागरिकों को भी ऊंची ब्याज दरों का फायदामिल रहा है। करीब आठ ऐसे स्मॉल फाइनेंस बैंक ऐसे हैं जो सावधि जमा (फिक्स्ड डिपॉजिट) पर 9.5 फीसदी तक ब्याज दे रहे हैं।

ऊंची ब्याज दरों का फायदा अब वरिष्ठ नागरिकों को भी मिल रहा है। करीब आठ ऐसे स्मॉल फाइनेंस बैंक ऐसे हैं जो सावधि जमा (फिक्स्ड डिपॉजिट) पर 9.5 फीसदी तक ब्याज दे रहे हैं। ऐसे में इन नागरिकों के लिए ऊंची ब्याज दर पर लंबे समय के लिए पैसा फिक्स करने का यह बेहतर अवसर है।

विश्लेषकों के मुताबिक, आगे चलकर जून से दरों में कटौती होने की उम्मीद है। ऐसे में जमा पर ब्याज दरें भी घटने लगेंगी। इस समय चूंकि रेपो रेट अपने कई साल के उच्च स्तर पर है, साथ ही उधारी की मांग भी बहुत ज्यादा है, इसलिए बैंक ज्यादा ब्याज दे रहे हैं।

इन स्मॉल फाइनेंस बैंकों की सर्वाधिक दर
                    बैंक दर                         एक साल     तीन साल
इक्विटास       9% (444 दिन)                8.70%       8.50%
फिनकेयर     9.21% (750 दिन)            8.25%       8.71%
जना             9.00% (365 दिन)            9.00%      7.75%
नॉर्थ ईस्ट       9.25% (555 दिन)             8.5%      8.75%
सूर्योदय         9.25% (25 माह)               7.35%    9.10%
उज्जीवन        9.50% (1001 दिन)          8.35%     8.65%
उत्कर्ष            9.10% (27 माह              8.60%      9.1%

बड़े बैंकों की दर 7.85 फीसदी तक
वैसे बड़े बैंक भी इस समय आम जमाकर्ताओं को 7.85 फीसदी तक ब्याज दे रहे हैं। हालांकि, वरिष्ठ नागरिकों के लिए इससे ज्यादा दर है। एक्सिस बैंक जहां एक साल की अवधि पर 7.85 फीसदी ब्याज दे रहा है, वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा 7.25 फीसदी तक ब्याज दे रहा है। यह दरें अलग-अलग अवधि पर हैं। छोटे बैंकों में ईएएसएफ और एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक भी वरिष्ठ नागरिकों को 8.75 फीसदी तक ब्याज दे रहे हैं।