Friday , April 12 2024
Home / देश-विदेश / अमेरिका ने साइबर जासूसी को लेकर उठाया सख्त कदम

अमेरिका ने साइबर जासूसी को लेकर उठाया सख्त कदम

अमेरिकी विदेश विभाग के मुताबिक यूएस सरकार पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) से जुड़े इस एपीटी 31 के खिलाफ कई कार्रवाई कर रही है। इसके जाल में अब तक अमेरिकी अधिकारियों, राजनेताओं सहित कई लोग फंस चुके हैं।

अमेरिका ने चीनी सरकार पर एक व्यापक साइबर जासूसी अभियान चलाने का आरोप लगाया है। अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा कि चीन की साइबर जासूसी से वैश्विक स्तर पर लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। इसने अमेरिकी अधिकारियों, राजनेताओं और कई अन्य लोगों को निशाना बनाया है। इस कारण चीनी कंपनी एडवांस्ड पर्सिस्टेंट थ्रेट 31 (एपीटी 31) पर प्रतिबंध लगाए गए हैं।

अमेरिकी विदेश विभाग के मुताबिक यूएस सरकार पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) से जुड़े इस एपीटी 31 के खिलाफ कई कार्रवाई कर रही है। इसके जाल में अब तक अमेरिकी अधिकारियों, राजनेताओं सहित कई लोग फंस चुके हैं। साथ ही विभिन्न अमेरिकी आर्थिक और रक्षा संस्थाओं और अधिकारियों, विदेशी लोकतंत्र कार्यकर्ताओं, शिक्षाविदों और सरकारी अधिकारियों को भी निशाना बना चुका है।

अमेरिकी विदेश विभाग ने सात पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) हैकरों के खिलाफ आपराधिक आरोपों की घोषणा की है। इसके तहत कई लोगों और संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

विभाग ने इन चीनी कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध
विभाग ने बताया कि उन्होंने दुर्भावनापूर्ण साइबर गतिविधियों में उनकी भूमिका के लिए झाओ, नी और वुहान जियाओरुइज़ी साइंस एंड टेक्नोलॉजी कंपनी, लिमिटेड (वुहान एक्सआरजेड) पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की। इसके अलावा, अमेरिकी न्याय विभाग ने समूह और प्रतिवादियों के बारे में जानकारी प्रदान करने वालों के लिए 10 मिलियन अमेरिकी डॉलर तक का इनाम भी दिया।

विदेश विभाग ने आगे बताया, ‘अमेरिकी विदेश विभाग का रिवार्ड्स फॉर जस्टिस कार्यक्रम (आरएफजे) समूह और प्रतिवादियों के बारे में जानकारी के लिए 10 मिलियन डॉलर तक का इनाम दे रहा है। बता दें कि आरएफजे कार्यक्रम ऐसे किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी मांगता है, जो किसी विदेशी सरकार के निर्देश पर या उसके नियंत्रण में कार्य करते हुए, कंप्यूटर धोखाधड़ी और दुरुपयोग अधिनियम (सीएफएए) का उल्लंघन करते हुए कुछ दुर्भावनापूर्ण साइबर गतिविधियों में संलग्न होता है।’ इन पीआरसी राज्य-प्रायोजित अभिनेताओं की ऐसी गतिविधियों ने अमेरिकी रक्षा और सरकारी क्षेत्रों और अमेरिकी व्यवसायों की बौद्धिक संपदा और व्यापार रहस्यों को लक्षित किया है।

अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा, इसके अतिरिक्त, ‘अमेरिका इन और अन्य राज्य-प्रायोजित साइबर अभिनेताओं की खतरनाक और गैर-जिम्मेदाराना कार्रवाइयों को बाधित करना जारी रखेगा।’