Monday , May 27 2024
Home / बाजार / एआई की मदद से निर्यात बढ़ाने की तैयारी में वाणिज्य मंत्रालय

एआई की मदद से निर्यात बढ़ाने की तैयारी में वाणिज्य मंत्रालय

वाणिज्य विभाग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से निर्यात बढ़ाने की तैयारी में जुट गया है। एआई की मदद से दुनिया के बाजार में निकलने वाली मांग का पहले पता लग जाएगा और फिर उन देशों को ध्यान में रखकर निर्यात बढ़ाने की तैयारी की जाएगी। निर्यातकों के साथ इन डाटा को शेयर किया जाएगा।

मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक एआई की मदद से वर्तमान में यह पता चल जाएगा कि भविष्य में किन देशों के ग्राहकों को कितने माल की जरूरत होगी। इस प्रकार का अनुमान प्राप्त होने से निर्यातक पहले से अपनी तैयारी कर सकेंगे और इससे बर्बादी को भी रोका जा सकेगा। अभी मुख्य रूप से 30 प्रकार की वस्तुओं का ही निर्यात किया जाता है। एआई की मदद से कई ऐसी वस्तुओं के निर्यात की संभावना का पता चल सकेगा जिसका अभी भारत निर्यात नहीं करता है। है।

लागत का अनुमान
एआई की मदद से निर्यातक सही समय पर कच्चे माल की खरीदारी कर सकेंगे। कंटेनर की मांग कैसी रहने वाली है और लाजिस्टिक लागत का पहले ही अनुमान लगाया जा सकता है। कस्टम क्लीयरेंस, आर्डर ट्रैकिंग जैसे काम में भी एआई की मदद ली जा सकती है।

चीन से मुकाबला
निर्यातकों ने बताया कि वैश्विक व्यापार से जुड़ी दुनिया की कई बड़ी निर्यातक कंपनियां निर्यात-आयात के लिए एआई का इस्तेमाल शुरू कर चुकी है। भारत में भी इस प्रकार की पहल हो चुकी है। गारमेंट निर्यातक ललित ठुकराल ने बताया कि चीन जैसे देश से प्रतिस्पर्धा करने के लिए निर्यात में एआई की मदद जरूरी है। सरकार के स्तर पर भी इस प्रकार की तैयारी हो रही है।

AI से मिलेगी गति
वाणिज्य मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक गत वित्त वर्ष 2023-24 में वस्तु निर्यात के लिए नए बाजार की तलाश पर बड़े स्तर पर काम किया गया और एआई की मदद से इस काम को और तेज किया जाएगा। गत वित्त वर्ष में कई देशों में पहली बार इंजीनिय¨रग गुड्स, फार्मा व इलेक्ट्रानिक्स जैसे आइटम का निर्यात किया गया जिससे इन वस्तुओं के निर्यात में बढ़ोतरी दर्ज करने में मदद मिली।

कई देशों में पहली बार हुआ निर्यात
मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक गत वित्त वर्ष में पहली बार साओ टोमे, मकाओ, जार्जिया, अजर्बेइजान, बिस्साओ, बेलिजे जैसे देश में इंजीनियरिंग गुड्स का निर्यात किया गया। वैसे ही पहली बार विंसेंट, मंगोलिया, एल सल्वाडोर, तुर्केमेनिस्तान, हां‌र्ड्स जैसे देशों में मोबाइल फोन का निर्यात किया गया।