Wednesday , February 8 2023
Home / MainSlide / संसद की कार्यवाही फिर आज हुई बाधित

संसद की कार्यवाही फिर आज हुई बाधित

नई दिल्ली 22 जुलाई।पेगासस जासूसी, कृषि अधिनियम और अन्‍य मुद्दों पर आज संसद के दोनों सदनों में विपक्ष के हंगामे के कारण कार्यवाही में रूकावट आयी। दोनों सदनों की कार्यवाही कई बार स्‍थगित होने के बाद दिनभर के लिए स्‍थगित कर दी गई।

राज्यसभा में दूसरे स्थगन के बाद दोपहर बाद 2 बजे सदन की बैठक फिर शुरू होने पर इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्वयोगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने फोन डेटा के मुददे पर बयान देना चाहा,लेकिन टीएमसी सदस्यों ने उन्‍हें बयान नहीं देने दिया।इसके बाद, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, डीएमके, वाम और अन्य दलों के सदस्य पेगासस जासूसी और कृषि कानूनों सहित विभिन्‍न मुद्दों पर विरोध प्रदर्शन करने लगे।वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य आंध्रप्रदेश के लिए विशेष दर्जे की मांग कर रहे थे।

लोकसभा में भी सदन की कार्यवाही कई बार स्‍थगित किए जाने के बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। तीन बार कार्यवाही स्‍थगित किए जाने के बाद शाम चार बजे जब सदन की कार्यवाही फिर शुरू हुई तो कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, डीएमके, राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, वाम और अन्य दलों के सदस्य फिर से सदन के बीचोंबीच आ गए और जासूसी, कृषि अधिनियम तथा अन्य मुद्दों पर नारेबाजी करने लगे।वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग कर रहे थे।

इससे पहले, सदन की कार्यवाही एक बार स्‍थगित किए जाने के बाद दोपहर 12 बजे शु्रू हुई तो शोर-शराबे के बीच अंतर्देशीय पोत विधेयक, 2021 और अनिवार्य रक्षा सेवा विधेयक, 2021 को सदन में पेश किया गया।

सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, डीएमके, राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, वामऔर अन्‍य दलों  सदस्य इन्हीं मुद्दों को लेकर सदन के बीचों बीच आ गए। विपक्षी सदस्यों ने मुद्दों पर स्थगन प्रस्ताव दिया था।शोर-शराबेके बीच  अध्यक्ष ओम बिरला ने प्रश्नकाल चलाने की कोशिश की।उन्होंने उत्‍तेजित सदस्यों से बार-बार आग्रह किया कि वे अपनी सीटों पर वापस जाएं और सदन को चलने दें।लेकिन विपक्षी सदस्यों ने नारेबाजी जारी रखी जिससे सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।