Wednesday , May 29 2024
Home / देश-विदेश / मायावती ने शाइस्ता परवीन पर अपना रुख किया साफ

मायावती ने शाइस्ता परवीन पर अपना रुख किया साफ

प्रयागराज में बसपा विधायक राजू पाल की हत्या के अहम गवाह उमेश पाल समेत दो लोगों की दिनदहाड़े सनसनीखेज हत्याकांड से यूपी की राजनीति गरम है। वारदात के पीछे बाहुबली अतीक अहमद का नाम आ रहा है। अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन और बेटों के खिलाफ भी केस दर्ज कर लिया गया है। शाइस्ता परवीन और उनका बेटा इस समय बसपा में हैं। पिछले दिनों ही शाइस्ता और बेटों ने बसपा की सदस्यता हासिल की थी। केस के बाद अतीक की पत्नी शाइस्ता और बेटों को बसपा से निष्कासित करने की चर्चा चल रही है। मायावती ने शाइस्ता परवीन पर अपना रुख साफ कर दिया है। मायावती ने सोमवार को ट्वीट कर कहा कि किसी भी अपराध की सजा अपराधी के परिवार या समाज को नहीं दी जाएगी। मायावती ने समाजवादी पार्टी पर भी निशाना साधा। गौरतलब है कि बसपा के विधायक रहे राजू पाल की 2005 में हत्या कर दी गई थी। हत्या का आरोप पूर्व सांसद बाहुबली अतीक अहमद और उसके भाई पर लगा था। दोनों इस समय अलग अलग जेलों में बंद हैं। राजू पाल हत्याकांड के अहम गवाह उमेश पाल लगातार अतीक अहमद के खिलाफ मोर्चा संभाले हुए थे। उन्होंने अतीक पर धमकाने और अगवा करने का भी आरोप लगाया था। इसे लेकर उमेश पाल को सुरक्षा के लिए दो गनर भी दिए गए थे। शुक्रवार को राजू पाल हत्याकांड की सुनवाई के बाद घर लौटते समय उमेश पाल के ऊपर आधा दर्जन हमलावरों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी। इसमें उमेश पाल समेत उनका एक गनर मारा गया और एक गनर घायल हो गया था। पुलिस ने हत्याकांड में अतीक के साथ ही उनकी पत्नी शाइस्ता और बेटों को भी नामजद करते हुए रिपोर्ट दर्ज की है। इसी रिपोर्ट को लेकर मायावती ने सोमवार को ट्वीट कर अपना रुख स्पष्ट किया। मायावती ने लिखा कि प्रयागराज में राजू पाल की वर्षों पहले हुई हत्या के मुकदमे का अहम गवाह अधिवक्ता उमेश पाल व उनके गनर की हत्या के मामले में अतीक अहमद के लड़के एवं उनकी पत्नी के ऊपर एफआईआर दर्ज किये जाने की भी सूचना प्रकाशित हुई है। मायावती ने कहा कि· बीएसपी ने इसका गम्भीरता से संज्ञान लेते हुये यह निर्णय लिया है कि इस मामले की चल रही जाँच में इनके दोषी साबित होते ही शाइस्ता परवीन को पार्टी से जरूर निष्कासित कर दिया जायेगा। इसके साथ ही यह भी विदित है कि किसी भी अपराध की सजा बीएसपी में उनके परिवार व समाज के किसी भी निर्दोष व्यक्ति को नहीं दी जाती है। किन्तु यह भी सच है कि पार्टी किसी भी जाति व धर्म के आपराधिक तत्व को बढ़ावा भी नहीं देती है। मायावती ने आगे लिखा कि यह बात भी सर्वविदित है कि अतीक अहमद समाजवादी पार्टी का ही प्रोडक्ट है। सपा से वह एमपी व एमएलए आदि भी रहा है। अब राजू पाल की पत्नी भी बीएसपी से सपा में चली गयी है, जिस पार्टी को वह मुख्य दोषी ठहराती थी। अतः इसकी आड़ में कोई भी राजनीति करना ठीक नहीं है।