Sunday , May 19 2024
Home / देश-विदेश / जानिए किस वजह से भारत-आस्ट्रेलिया के बीच आपसी शैक्षणिक साझेदारी होगी और मजबूत…

जानिए किस वजह से भारत-आस्ट्रेलिया के बीच आपसी शैक्षणिक साझेदारी होगी और मजबूत…

भारत-आस्ट्रेलिया के बीच आपसी शैक्षणिक साझेदारी अब और मजबूत होगी। जिसमें दोनों देशों अब न सिर्फ ज्वाइंट डिग्री कोर्स संचालित करेंगे बल्कि एक-दूसरे के कोर्स और डिग्रियों को भी मान्यता देंगे। दोनों देशों के शिक्षा मंत्रियों की मौजूदगी में गुरुवार को इसे लेकर एक अहम करार हुआ है। इसके साथ ही दोनों देशों के छात्रों का एक-दूसरे के संस्थानों में आवाजाही का रास्ता भी खुल गया है। अभी हर साल बड़ी संख्या में भारतीय छात्र पढ़ाई के लिए आस्ट्रेलिया जाते है लेकिन आस्ट्रेलिया से भारत आने वाले छात्रों की संख्या काफी कम है। इसका बड़ा लाभ दोनों ही देशों के युवाओं को नौकरियों में भी मिलेगा।
आस्ट्रेलिया और भारत के बीच इसके साथ ही शैक्षणिक और स्किल से जुड़े दस और करार हुए है। जिसमें दिल्ली विश्वविद्यालयों के साथ आस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों ने अपने शैक्षणिक और शोध से जुड़े पुराने संबंधों को नए सिरे से मजबूती दी है। इस मौके पर आस्ट्रेलियाई शिक्षा मंत्री जैसन क्लेयर ने साफ किया है कि गिफ्ट सिटी में आस्ट्रेलिया के दो विश्वविद्यालय अपने कैंपस खोलने जा रहे है, उनमें से वोलोंगांग विश्वविद्यालय इस साल के अंत तक शुरू हो जाएगा। इसके साथ ही इनमें दाखिला भी शुरू हो जाएगा। हालांकि अभी यह कैंपस काफी छोटा होगा। मैनेजमेंट सहित कुछ खास कोर्स ही अभी इसमें संचालित होंगे। जबकि डेकिन विश्वविद्यालय का कैंपस खुलने में अभी समय लगेगा। इस बीच केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दोनों देशों के बीच हुई नए शैक्षणिक और स्किल से जुड़े करारों को लेकर खुशी जताई है। साथ ही कहा यह दोनों देशों के लिए गेंम चेंजर होंगे। एक सवाल के जवाब में प्रधान ने साफ किया कि इस पहल से दोनों देशों एक दूसरे की ज्ञान और प्रतिभा का इस्तेमाल करेंगे। जिसमें बड़ी संख्या में आस्ट्रेलियाई छात्र पढ़ाई के लिए भारत भी आएंगे। इस बीच दोनों देशों के बीच जो करार हुए है उनमें स्किल,शोध और स्कूल फ्रेमवर्क आदि क्षेत्रों से जुड़े है।

स्किल प्रोग्रामों पर 1.89 मिलियन डालर खर्च करेगा आस्ट्रेलिया

भारत के स्किल के क्षेत्र में नई पहचान दिलाने के लिए आस्ट्रेलिया ने भारत को मदद का पूरा भरोसा दिया है। साथ ही कहा है कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत भारत ने वर्ष 2035 तक देश के 50 प्रतिशत युवाओं को स्किल शिक्षा से जोड़ने का जो लक्ष्य रखा है, उसे पूरा करने में वह पूरी मदद करेंगे। आस्ट्रेलिया के शिक्षा मंत्री जैसन क्लेयर ने एक सवाल के जवाब में कहा कि भारत के चल रहे स्किल कार्यक्रमों को रफ्तार देने के लिए आस्ट्रेलियाई सरकार ने 1.89 मिलियन डालर खर्च करने का भी फैसला लिया है। जो कृषि आदि क्षेत्रों से जुड़ें होंगे।

प्रधान ने उठाया वीजा का मुद्दा

आस्ट्रेलियाई शिक्षा मंत्री जैसन क्लेयर की भारत यात्रा के दौरान केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने उनके सामने भारतीय छात्रों को वीजा मिलने में हो रही देरी का मुद्दा उठाया। हालांकि क्लेयर ने उन्हें भरोसा दिया कि वह इस दिक्कत से वाकिफ है। वह इसके प्रतीक्षा समय को लगातार कम करने की दिशा में काम कर रहे है। कोरोना के बाद से पैदा हुई यह दिक्कत अब काफी कम हो रही है। वहीं धर्मेंद्र प्रधान ने यह मुद्दा दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती देने के लिए आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में रखा। साथ ही बताया कि भारतीय छात्रों को समय से वीजा ने मिलने के चलते वह पढ़ाई के लिए वहां नहीं जा पा रहे है। पत्रकारों से चर्चा में प्रधान ने बताया कि अभी भी करीब तीन लाख छात्रों के वीजा अटके हुए है।