Wednesday , April 17 2024
Home / MainSlide /  प्रधानमंत्री मणिपुर को चाहते हैं आग में जलाना – राहुल  

 प्रधानमंत्री मणिपुर को चाहते हैं आग में जलाना – राहुल  

नई दिल्ली 11 अगस्त।वरिष्ठ कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मणिपुर की गंभीर स्थिति को नजरदांज कर रहे हैं,और उसे वह आग में जलाना चाहते है।  

    श्री गांधी ने आज यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि श्री मोदी ने लोकसभा में अपने दो घंटे 13 मिनट के लम्बे सम्बोधन में आखिरी में मणिपुर पर केवल दो मिनट बोला,शेष समय वह केवल चुनावी भाषण दे रहे थे।उन्होने कहा कि मणिपुर में महीनों से आग लगी है, लोग मारे जा रहे हैं। दुष्कर्म हो रहा है, बच्चों को मारा जा रहा है,और प्रधानमंत्री की गंभीरता देखिए कि वह हंस कर बोल रहे थे,मुस्कुरा रहे थे और जोक मार रहे थे।प्रधानमंत्री को यह शोभा नहीं देता है।

     उन्होने कहा कि विश्वास प्रस्ताव का विषय न तो वह थे और न ही कांग्रेस पार्टी।उन्होने कहा कि वह 19 वर्षों से राजनीति में है,बाढ़,सुनामी और हिंसा की जैसी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं जब होती है तो मौके पर जाते है।मैंने जो मणिपुर में देखा, वह मैंने पहले कभी नहीं सुना। उन्होने कहा कि मैंने संसद में भारत की हत्या की बात ऐसे ही नही कहीं बल्कि वहां के हालात को देखकर कहा कि अमित शाह जी और नरेंद्र मोदी जी ने मणिपुर में भारत की हत्या की।

      श्री गांधी ने मणिपुर के हालात का जिक्र करते हुए कहा कि जब वहां के दौरे पर वहां पहुंचे तो उनसे मैतई के लोगो द्वारा साफ कह दिया गया कि अपनी सुरक्षा में कुकी को लेकर नही आए,वर्ना हम उन्हे मार देंगे।यहीं स्थिति कुकी इलाके की थी उन्होने कहा कि उनकी सुरक्षा टीम में अगर मैतई होगा तो हम उसे गोली मार देंगे। हमें इसका ध्यान देना पड़ा।उन्होने कहा कि एक राज्य दो हिस्सों में बंट गया है।  

      उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री मणिपुर को जलाना चाहते है।अऩ्यथा अगर सेना को बोल दिया जाय कि वहां घटनाएं पूरी तरह रूकनी चाहिए,और मेरा विश्वास हैं कि दो दिन में ही शान्ति कायम हो जायेगी,तीसरा दिन नही लगेगा।उन्होने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि अविश्वास प्रस्ताव 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर नही था,लेकिन उस पर लम्बी लम्बी बाते की गई।उन्होने संसद टीवी में चर्चा के दौरान उनको बहुत कम दिखाए जाने पर कहा कि शायद प्रधानमंत्री को टीवी पर हमारा चेहरा पसन्द नही है।दोनो सदन तथा संसद टीवी सब उनके नियंत्रण में है।इस विषय पर वह ज्यादा कुछ नही कहेंगे।