Friday , December 9 2022
Home / MainSlide / राष्ट्रपति ने स्वच्छ ग्रामीण सर्वेक्षण पुरस्कार किया वितरित

राष्ट्रपति ने स्वच्छ ग्रामीण सर्वेक्षण पुरस्कार किया वितरित

नई दिल्‍ली 02 अक्टूबर।राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने आज स्‍वच्‍छ ग्रामीण सर्वेक्षण और जल जीवन मिशन कार्य निष्‍पादन मूल्‍यांकन पुरस्‍कार प्रदान किये।

बड़े राज्‍यों की श्रेणी में पहला पुरस्‍कार तेलंगाना को, दूसरा हरियाणा और तीसरा पुरस्‍कार तमिलनाडु को दिया गया। छोटे राज्‍यों और केन्‍द्रशासित प्रदेशों में अंडमान और निकोबार ने पहला पुरस्‍कार प्राप्‍त किया। दादरा और नगर हवेली तथा दमन और दीव को दूसरे स्‍थान के लिए, जबकि सिक्किम को तीसरे स्‍थान के लिए पुरस्‍कार मिला।

स्‍वच्‍छ ग्रामीण सर्वेक्षण का उददेश्‍य स्‍वच्‍छ भारत मिशन ग्रामीण के अन्‍तर्गत निर्धारित गुणवत्‍ता मानकों के आधार पर राज्‍यों और जिलों को उनके प्रदर्शन के लिए रैंकिंग प्रदान करना है।मिशन के अन्‍तर्गत प्रत्‍येक वर्ष घरों में जल आपूर्ति की स्थिति का मूल्‍यांकन किया जाता है।इस श्रेणी में पुद्दुचेरी को पहला पुरस्‍कार दिया गया। गोआ दूसरे और तमिलनाडु तीसरे स्‍थान पर रहे।

समारोह को सम्‍बोधित करते हुए राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने स्‍वच्छता के लिए सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि कोविड महामारी के दौरान स्‍वच्‍छ भारत अभियान और जल जीवन मिशन ने एक सुरक्षा कवच का काम किया। उन्‍होंने कहा कि हमें स्‍वच्‍छता और स्‍वास्‍थ्‍य का संकल्‍प लेना चाहिए। उन्होने कहा कि महात्‍मा गांधी का मानना था कि साफ-सफाई की आदत बचपन से ही डाली जानी चाहिए।

राष्‍ट्रपति ने कहा कि स्‍वच्‍छ भारत मिशन ग्रामीण के दूसरे चरण में देशभर के तीन लाख गांवों में ठोस और तरल अपशिष्‍ट के प्रबंधन का कार्य जारी है।