Thursday , June 13 2024
Home / जीवनशैली / एडवेंचर के हैं शौकीन, तो मई-जून में एक्सप्लोर करने के लिए बेस्ट हैं हिमाचल प्रदेश

एडवेंचर के हैं शौकीन, तो मई-जून में एक्सप्लोर करने के लिए बेस्ट हैं हिमाचल प्रदेश

अगर आप ट्रेकिंग के शौकीन हैं और ऐसी किसी जगह की तलाश में हैं, जहां आप सुकून से इस एडवेंचर को एन्जॉय कर सकें, तो निकल जाएं हिमाचल की ओर।त्रिउंड, पार्वती वैली, बीस कुंड, हम्पटा पास, खीरगंगा ये सारे ऐसे ट्रेक्स हैं, जहां आपको खचाखच भीड़ देखने को मिल सकती है, तो आज हम आपको ऐसी कुछ जगहों के बारे में बताएंगे, जहां की ट्रेकिंग आपको सालों तक रहेगी याद।

जलसू पास ट्रेक

जलसू पास चंबा और कांगड़ा को जोड़ता है। इस ट्रेकिंग के दौरान आपको शानदार नजारे देखने को मिलेंगे, लेकिन यहां की ट्रेकिंग इतनी आसान नहीं है। ट्रेक की शुरुआत चंबा और कांगड़ा दोनों जगहों से होती है। यह ट्रेक चंबा से शुरू होता है और पालमपुर के पास उत्तराला में खत्म होता है।

चोबिया पास ट्रेक

चोबिया पास ट्रेक हिमाचल प्रदेश के पीर पंजाल रेंज में दूसरा सबसे ऊंचा पास है, जो लाहौल और स्पीति तक फैला हुआ है। इस ट्रेकिंग को पूरा करने में 5 से 6 दिन का वक्त लगता है। ट्रेकिंग का रास्ता सुंदर घाटियों, नदियों से होकर गुजरता है। जो इस एडवेंचर को और मजेदार बनाते हैं।

मियार घाटी ट्रेक

लाहौल-स्पीति जिले के बसी ये घाटी बेहद खूबसूरत है। यहां से हिमाचल और लद्दाख दोनों का शानदार नजारा देखने को मिलता है। लोकल लोगों के बीच ये घाटी वैली ऑफ फ्लॉवर्स के नाम से जानी जाती है। बेहद खूबसूरत होने के बाद भी यह घाटी अभी लोगों की नजरों से दूर है। मियार घाटी की ट्रेकिंग में कम से कम 5 दिन लगते हैं। इस ट्रेकिंग की शुरुआत यहां के आखिरी गांव खंजर से शुरू होता है। ट्रेकिंग के दौरान ऐसे-ऐसे नजारे देखने को मिलते हैं जिनका एक्सपीरियंस कभी न भूलने वाला होता है। इस ट्रेक को आप सोलो भी कर सकते हैं, लेकिन अगर आपको एडवेंचर के साथ यहां से जुड़ी मजेदार कहानियां जाननी हैं, तो गाइड के साथ जाएं।