Thursday , June 13 2024
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ सरकार ने नक्सलियों से पुनर्वास नीति के बारे में मांगे सुझाव

छत्तीसगढ़ सरकार ने नक्सलियों से पुनर्वास नीति के बारे में मांगे सुझाव

(फाइल फोटो)

जगदलपुर 22 मई।छत्तीसगढ़ के उपमुख्यमंत्री और गृह मंत्री विजय शर्मा ने आज नक्सलियों से वार्ता की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ते हुए पुनर्वास नीति सुझाव के लिए ईमेल आईडी और गूगल फॉर्म जारी कर नक्सलियों से आग्रह किया है की वे स्वयं बताएं कि उनके पुनर्वास नीति क्या होनी चाहिए।

   श्री शर्मा ने आज यहां पत्रकारों को यह जानकारी देते हुए कहा कि मैं हमेशा कहता हूं कि बातचीत के सारे रास्ते खुले हैं और इसके लिए हमारी भाजपा की विष्णुदेव सरकार ने नियद नेल्ला नार नाम से योजना लाकर गांव में सड़क ,स्वास्थ्य, पानी, सुविधा प्रारम्भ कर समानता और विकास का एक वातावरण तैयार कर दिया हैं और यह बात भटके हुए युवा समझ रहे हैं इसीलिए हम उन्हीं से पूछ रहे हैं कि उनके पुनर्वास नीति क्या होनी चाहिए। ताकि मुख्य धारा में जुड़कर प्रदेश और देश की विकास में भागीदारी कर सके।

  उन्होंने कहा कि सरकार स्वयं मानती है की आपरेशन मुख्य विषय नही है और यह तो सरकार के प्रयास का बहुत छोटा सा हिस्सा है सरकार का मुख्य प्रयास प्रभावित क्षेत्र में विकास करना, आदिवासी क्षेत्र की सामाजिक , सांस्कृतिक और आर्थिक विकास के कार्य करना है। साथ ही साथ जो युवा नक्सलवादी विचारधारा छोड़कर पुनर्वासित हुए है,उनके लिए कार्य कर रही है और उनके सर्वांगीण  विकास की योजना आगे बढ़ा रही है।

       उप मुख्यमंत्री श्री शर्मा ने युवाओं को भड़काने वाले नक्सली नेताओं से पूछा कि चीन जैसे देशों में भी माओवाद है लेकिन वहां सामाजिक धार्मिक आर्थिक और व्यक्तिगत स्वतंत्रता शून्य है क्या वे ऐसा राज्य चाहते हैं।उन्होने कहा कि छत्तीसगढ़ की पुनर्वास नीति बहुत ही अच्छी है लेकिन उसे बेहतर बनाने के लिए किसी भी राज्य में जाकर अध्ययन करने को तैयार है।