Friday , December 9 2022
Home / राजनीति / कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने की रेस में शामिल हुए CM अशोक गहलोत, बुलाई विधायक दल की बैठक 

कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने की रेस में शामिल हुए CM अशोक गहलोत, बुलाई विधायक दल की बैठक 

राजस्थान में मुख्यमंत्री बदलने की अटकलों के बीच कांग्रेस पार्टी ने आज यानी रविवार, 25 सितंबर को जयपुर में विधायक दल की बैठक बुलाई है। इस बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और राजस्थान प्रभारी अजय माकन भी मौजूद रहेंगे। उधर राजस्थान में मुख्यमंत्री पद के लिए लाबिंग तेज हो गई है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का उत्तराधिकारी चुनने को लेकर कांग्रेस विधायक दल की रविवार शाम सात बजे मुख्यमंत्री निवास पर बैठक बुलाई गई है। खड़गे और अजय माकन सीएम पद को लेकर विधायकों से राय लेने के साथ ही पार्टी आलाकमान का फैसला भी सुना सकते हैं।
पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट खेमे के नेताओं का कहना है कि गांधी परिवार की तरफ से उन्हें अगला सीएम बनाए जाने के संकेत मिल गए हैं। हालांकि, गहलोत अब भी पायलट को सीएम बनाए जाने के पक्ष में नहीं हैं। गहलोत खेमे ने पहले तो विधानसभा अध्यक्ष डा सीपी जोशी और कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा का नाम आगे किया था, लेकिन अब कृषि मंत्री लालचंद कटारिया के समर्थन में लाबिंग शुरू हुई है।

कांग्रेस नेतृत्व की पहली पसंद पायलट

बताया जा रहा है कि सचिन पायलट अभी भी गहलोत के उत्तराधिकारी के लिए कांग्रेस नेतृत्व की पहली पसंद हैं। शनिवार को ही गहलोत के खास माने जाने वाले मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने सचिन पायलट को सीएम पद के लिए सबसे उपयुक्त बताया था। माना जाता है कि सचिन पायलट ने जब 2020 में गहलोत को लेकर पार्टी में विद्रोह किया था तो उन्हें कांग्रेस नेतृत्व ने खास वादा कर मनाया था।

सचिन पायलट ने विधायकों से मिलना किया तेज

अशोक गहलोत के कांग्रेस चीफ के लिए चुनाव लड़ने के चलते सचिन पायलट ने भी विधायकों से मिलना तेज कर दिया है। शुक्रवार को सचिन पायलट ने विधानसभा के स्पीकर सीपी जोशी और पार्टी के मुख्य सचेतक महेश जोशी से उनके कक्ष में मुलाकात की थी। इससे पहले केरल में जाकर सचिन पायलट ने राहुल गांधी से मुलाकात की और भारत जोड़ो यात्रा में भी शामिल हुए थे।

गहलोत कर सकते हैं सीपी जोशी के नाम की सिफारिश

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि गहलोत पहले सीएम पद से हटेंगे और कांग्रेस का चुनाव लड़ेंगे या उसके बाद इस्तीफा देंगे। दरअसल गहलोत की विधायक दल पर मजबूत पकड़ है। कई लोगों का मानना है कि गहलोत की मंजूरी के बिना अगर कोई सीएम बनता है तो उसके लिए काम करना मुश्किल हो सकता है। सूत्रों के मुताबिक, गहलोत सीएम पद के लिए राजस्थान के स्पीकर सीपी जोशी के नाम की सिफारिश कर सकते हैं।