Wednesday , February 8 2023
Home / बाजार / चीन में Apple iPhone प्लांट में वेतन को लेकर विरोध प्रदर्शन के दौरान जमकर हुई हिंसा

चीन में Apple iPhone प्लांट में वेतन को लेकर विरोध प्रदर्शन के दौरान जमकर हुई हिंसा

बुधवार को चीन के Zhengzhou शहर में दुनिया के सबसे बड़े आईफोन Apple iPhone प्लांट में श्रमिकों का उपद्रव बेकाबू हो गया। विरोध प्रदर्शन के दौरान जमकर हिंसा हुई। वेतन न मिलने से भड़के मजदूरों ने फैक्ट्री में लगे कैमरों को तोड़ दिया और पुलिस से भिड़ गए। उधर फॉक्सकॉन ने चीन की आईफोन फैक्ट्री में वेतन को लेकर हिंसक विरोध के बाद माफी मांगी है।
Apple के प्रमुख सप्लायर फॉक्सकॉन ने गुरुवार को कहा कि चीन में कोरोना से प्रभावित iPhone कारखाने में नए लोगों को काम पर रखने में “तकनीकी गलती” हुई है। मीडिया रिपोर्ट्स की अनुसार, कंपनी के मजदूरों से माफी मांगी है और कहा है कि उनकी मांगों को जल्द से जल्द पूरा करने की कोशिश की जाएगी।

आईफोन की सबसे बड़ी फैक्ट्री में उपद्रव

बुधवार को Zhengzhou में दुनिया के सबसे बड़े आईफोन प्लांट में सैकड़ों श्रमिकों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए निगरानी कैमरों को तोड़ दिया और पुलिस से भिड़ गए। आपको बता दें कि चीन में इस तरह के खुले विरोध प्रदर्शन कम ही देखने को मिलते हैं। वेतन न मिलने और सख्त कोरोना प्रतिबंधों के कारण हो रही समस्या के कारण ये कर्मचारी आक्रोशित हैं।
jagran
Foxconn ने एक बयान में नए कर्मचारियों को काम पर रखने का जिक्र करते हुए कहा कि ‘हमारी टीम मामले की जांच कर रही है और ऑनबोर्डिंग प्रक्रिया के दौरान कुछ तकनीकी खामियों का पता चला है। हम कंप्यूटर सिस्टम में हुई इनपुट त्रुटि के लिए क्षमा चाहते हैं और गारंटी देते हैं कि कमर्चारियों के वेतन में कोई बदलाव नहीं किया गया है।’ ताइवान की कंपनी ने फॉक्सकॉन कहा कि वह उन मजदूरों की इच्छाओं का सम्मान करेगी जो इस्तीफा देना चाहते हैं और फैक्ट्री कैंपस छोड़ना चाहते हैं।

कोरोना पर चीन का दोहरा रैवैया?

सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हो रहे एक वीडियो में मजदूरों ने आरोप लगाया है कि उन्हें बताया गया है कि फॉक्सकॉन का इरादा बोनस भुगतान में देरी करना है। कुछ कर्मियों ने यह भी शिकायत की कि उन्हें कोरोना पॉजिटिव सहकर्मियों के साथ एक ही कमरे में रहने के लिए मजबूर किया गया था। ये दावे अगर सच हैं तो इनसे चीन के दोहरे रैवये की पोल खुलती नजर आती है।

कब थमेगा विवाद

फिलहाल, हाल के दिनों में चीन के सबसे बड़े विरोध प्रदर्शनों में से एक माने जाने वाला यह विवाद थमता नजर आ रहा है। कंपनी विरोध प्रदर्शनों में शामिल कर्मचारियों के साथ बातचीत कर रही है। रायटर्स की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि प्लांट में उत्पादन गुरुवार को भी जारी रहा।
jagran

फॉक्सकॉन पर गंभीर आरोप

बुधवार को इंटरनेट मीडिया में चल रहे एक वीडियो में कुछ श्रमिकों ने शिकायत की कि उन्हें पता ही नहीं होता कि क्वारंटीन के दौरान उन्हें भोजन मिलेगा या नहीं। बता दें कि चीन ने बुधवार को COVID के 31,444 नए दैनिक मामले दर्ज किए गए हैं। उधर फॉक्सकॉन के शेयर गुरुवार सुबह 0.5% गिर गए। Foxconn के Zhengzhou संयंत्र में आईफोन 14 प्रो और प्रो मैक्स सहित एप्पल डिवाइस बनाने के लिए 200,000 से अधिक लोग काम करते हैं। Apple ने कहा है कि वह अपने कर्मचारियों की चिंताओं को दूर करने के लिए फॉक्सकॉन के साथ मिलकर काम कर रहा है। आपको बता दें कि दुनिया भर में iPhone शिपमेंट का 70% हिस्सा अकेले Zhengzhou फैक्ट्री का है।