Wednesday , May 29 2024
Home / खास ख़बर / उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में गैस पहुंचाने वाले थे सांसद-मंत्री ब्रह्मदत्त

उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में गैस पहुंचाने वाले थे सांसद-मंत्री ब्रह्मदत्त

सुरक्षित और अधिक कुशल खाना पकाने के समाधान की जरूरत को समझते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता ब्रह्मदत्त ने स्थानीय आबादी को गैस सिलिंडर उपलब्ध कराना अपना मिशन बना लिया था।

देहरादून के विकास नगर से ताल्लुक रखने वाले वरिष्ठ कांग्रेस नेता ब्रह्मदत्त ने 1984 का चुनाव जीतने के बाद पहाड़ों में गैस आपूर्ति और वितरण प्रणाली में महत्वपूर्ण योगदान दिया था। प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने 1986 में ब्रह्मदत्त को पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री बनाया।

इस भूमिका में उन्होंने क्षेत्र में गैस सिलिंडर की उपलब्धता और वितरण में सुधार पर काम किया। उस दौर में पहाड़ों में लोग खाना पकाने के लिए पारंपरिक तरीकों लकड़ियों की मदद से चूल्हा जलाना और खुली आग पर खाना पकाना। सुरक्षित और अधिक कुशल खाना पकाने के समाधान की जरूरत को समझते हुए ब्रह्मदत्त ने स्थानीय आबादी को गैस सिलिंडर उपलब्ध कराना अपना मिशन बना लिया।

दो सिलिंडर वाला एलपीजी कनेक्शन (डीबीसी) पहाड़ में ब्रह्मदत्त की ही देन मानी जाती है। इस पहल ने क्षेत्र के लोगों के जीवन पर परिवर्तनकारी प्रभाव डाला, जिससे उन्हें अधिक कुशलतापूर्वक और सुरक्षित रूप से खाना पकाने में मदद मिली। अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए उनके समर्पण के परिणामस्वरूप ब्रह्मदत्त को 1989 के चुनावों में कांग्रेस पार्टी के सांसद के रूप में फिर से चुना गया।

1989 चुनाव में कांग्रेस के ब्रह्मदत्त दोबारा विजयी रहे
1971 में टिहरी गढ़वाल में राजनीतिक परिदृश्य स्वतंत्र उम्मीदवार महाराजा मानवेंद्र शाह की कांग्रेस उम्मीदवार परिपूर्णानंद पैन्यूली से अप्रत्याशित हार से हिल गया था। ब्रह्मदत्त के लिए चुनाव परिणाम को स्वीकार करना विशेष रूप से कठिन था, जो उनके करीबी लोगों में एक भरोसेमंद व्यक्ति थे। हार को स्वीकार करने में असमर्थ ब्रह्मदत्त ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दायर करने का कठोर कदम उठाया।

आरोप लगाया गया कि पैन्यूली ने अनुचित तरीकों से चुनाव जीता है। कोर्ट में मामला लंबा चला। 1991 का चुनाव उनके रिश्ते में एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुआ, क्योंकि महाराजा मानवेंद्र शाह बीजेपी और कांग्रेस की ओर से ब्रह्मदत्त उम्मीदवार थे। महाराजा शाह ने यह सीट जीत ली। महाराजा शाह ने संसद की लंबी पारी खेली, जबकि ब्रह्मदत्त ने 1991 की हार से राजनीतिक संन्यास ले लिया था। 1984 में ब्रह्मदत्त टिहरी लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने गए। 1989 चुनाव में कांग्रेस के ब्रह्मदत्त पुनः विजयी रहे।
-प्रस्तुति-शीशपाल गुसाईं