Monday , June 24 2024
Home / MainSlide / संसद के दोनों सदनों में आज भी कार्यवाही बाधित रही

संसद के दोनों सदनों में आज भी कार्यवाही बाधित रही

नई दिल्ली 10 अगस्त।संसद में आज पेगासस, कृषि कानूनों और अन्‍य मुद्दों पर दोनों सदनों में कार्यवाही बाधित रही। विपक्षी दलों के शोर-शराबे के बीच राज्‍यसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्‍थगित कर दी गई।

राज्‍यसभा में पांचवे स्‍थगन के बाद जब चार बजे कार्यवाही शुरू हुई तो कांग्रेस, टीएमसी, वाम दल, डीएमके, आम आदमी पार्टी और अन्‍य दलों के सदस्‍य कृषि कानूनों के विरोध में नारे लगाते हुए सदन के बीचों बीच आ गए। हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्‍थगि‍त कर दी गई।

इससे पहले जब दो बजे राज्‍यसभा की कार्यवाही शुरू हुई तो सभापति ने सदस्‍यों से कृषि समस्‍याओं और उनके समाधान पर चर्चा का आग्रह किया। कांग्रेस के सदस्‍य जयराम रमेश ने इस पर आपत्ति व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि उन्‍होंने कृषि कानूनों पर ध्‍यानाकर्षण प्रस्‍ताव सम्‍बंधी नोटिस दिया था,लेकिन सदन की भावना पर ध्‍यान दिए बिना उसे अल्‍पावधि चर्चा में बदल दिया गया। इस पर संसदीय कार्यमंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि यदि सदस्‍य सदन की भावना के अनुरूप काम करना चाहते हैं तो वे उसके लिए तैयार हैं।

पीठासीन अधिकारी भुवनेश्‍वर कलिता ने भी व्‍यवस्‍था दी कि इस मुद्दें पर अल्‍पावधि चर्चा कराने का निर्णय राज्‍यसभा के सभापति ने लिया है। बाद में सदन में शोर-शराबे के बीच कृषि समस्‍याओं और समाधानों पर चर्चा शुरू हुई। भारतीय जनता पार्टी के विजय पाल सिंह तोमर ने आरोप लगाया कि कांग्रेस की गलत नीतियों के कारण किसान समस्‍याओं का सामना कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्‍व में सरकार ने किसानों के लिए जो बजटीय आवंटन किया है वह यूपीए शासन के दौरान किए गए आवंटन से बहुत अधिक है।

उन्‍होंने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के हित में है। बीजू जनता दल के प्रसन्‍ना आचार्य ने सरकार से आग्रह किया कि किसानों के हित में स्‍वामीनाथन समिति की सिफारिश लागू की जाए।