Thursday , June 20 2024
Home / MainSlide / कोविंद का राष्ट्र के विकास के लिए समर्पण और सेवा भाव से काम करने का आह्वान

कोविंद का राष्ट्र के विकास के लिए समर्पण और सेवा भाव से काम करने का आह्वान

नई दिल्ली 14 अगस्त।राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों से हर काम देश के नाम का मंत्र अपनाने और राष्ट्र के विकास के लिए पूर्ण समर्पण और सेवा भाव से काम करने का आह्वान किया है।

श्री कोविंद ने 75वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर अपने सम्बोधन में कहा कि यह दिन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि आजादी का अमृत महोत्सव पर्व शुरू हो रहा है।इस वर्ष के स्वाधीनता दिवस का विशेष महत्व है क्योंकि इसी वर्ष से हम सब अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं।स्वाधीनता दिवस हमारे लिए पराधीनता से मुक्ति का त्योहार है।कई पीढ़ियों के ज्ञात और अज्ञात स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्ष से हमारी आज़ादी का सपना साकार हुआ था। उनके शौर्य और पराक्रम के बल पर ही आज हम और आप आज़ादी की सांस ले रहे हैं।

उन्होने कहा कि जम्मू-कश्मीर में नया सूर्य उग रहा है और केन्द्र सरकार ने लोकतंत्र और विधि के शासन में भरोसा रखने वाले सभी संबद्ध पक्षों को साथ विचार विमर्श शुरू कर दिया है।अब जम्मू-कश्मीर में नव-जागरण दिखाई दे रहा है। सरकार ने लोकतंत्र और कानून के शासन में विश्वास रखने वाले सभी पक्षों के साथ परामर्श की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

ओलंपिक खेलों में भारत के प्रदर्शन की सराहना करते हुए श्री कोविंद ने कहा कि भारत के खिलाड़ियों ने अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से राष्ट्र को गौरव दिलाया है।राष्ट्रपति ने प्रत्येक अभिभावक को ओलिंपिक पदक विजेता बेटियों के परिवारों से प्रेरणा लेने की अपील की और कहा कि विकास के लिए उन्हें अपनी बेटियों को अवसर उपलब्ध कराने चाहिएं।

कोविड महामारी के संबंध में राष्ट्रपति ने कहा कि देश में महामारी का प्रभाव भले ही कम दिख रहा है, लेकिन कोरोना वायरस अभी गया नहीं है। राष्ट्रपति ने कहा कि देश को अभी इस साल हुए भयानक परिणाम से बाहर आना है।श्री कोविंद ने कहा कि असाधारण अभियान में विदेशों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की गई और भारत ने कई देशों को दवाईयां, चिकित्सा उपकरण और टीके उपलब्ध कराए। राष्ट्रपति ने संकट के समय में भारत की मदद करने के लिए विश्व समुदाय का भी आभार प्रकट किया।

राष्ट्रपति ने कहा कि लोगों को महामारी के नियंत्रण के लिए बचाव मानक कम नहीं करने चाहिए। उन्होंने कहा कि टीका महामारी से बचाव का सबसे उत्तम उपाय है। देश में विश्व का सबसे बड़ा कोविड टीकाकरण अभियान चल रहा है। पचास करोड़ से अधिक नागरिकों को टीका दिया जा चुका है। उन्होंने सभी पात्र नागरिकों से टीका लेने और दूसरों को प्रेरित करने की अपील की।