Wednesday , February 1 2023
Home / MainSlide / उच्च शिक्षण संस्थानों के पाठ्यक्रम हो अधिक रोजगारोन्मुखी- राज्यपाल

उच्च शिक्षण संस्थानों के पाठ्यक्रम हो अधिक रोजगारोन्मुखी- राज्यपाल

रायपुर/रायगढ़ 05 जुलाई।छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा हैं कि उच्च शिक्षण संस्थानों के पाठ्यचर्चा योजनाकारों को इस तरह के पाठ्यक्रम तैयार करना चाहिए, जो अधिक प्रासंगिक और रोजगारोन्मुखी रहे।

सुश्री उईके ने आज ओ.पी. जिंदल विश्वविद्यालय रायगढ़ के प्रथम दीक्षांत समारोह को वर्चुअल रूप से संबोधित करते हुए कहा कि भारत को युवाओं का देश कहा जाता है और अनुमान है कि 2030 तक दुनिया के सर्वाधिक युवा हमारे देश में होंगे। इस तरह की स्थिति, एक बड़ी मात्रा में परिवर्तन की आवश्यकता की मांग करती है और निकट भविष्य में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में भी परिवर्तन अनिवार्य रूप से होगा।

उन्होने कहा कि हमें ऐसी शिक्षा प्रणाली की आवश्यकता है, जो सकारात्मक तरीकों पर आधारित शिक्षण हो, जो आत्मनिर्भरता को प्रोत्साहित कर सके। उच्च शिक्षण संस्थानों के पाठ्यचर्चा योजनाकारों को इस तरह के पाठ्यक्रम तैयार करना चाहिए, जो अधिक प्रासंगिक और रोजगारोन्मुखी रहे।उन्होने कहा कि दीक्षांत समारोह अपने आप में एक अविस्मरणीय क्षण होता है, विशेषकर विद्यार्थियों के लिए यह अति प्रसन्नता का क्षण होता है, क्योंकि इस दिन उन्हें अपने किए गए कठोर परिश्रम का प्रतिफल प्राप्त होता है।

इस अवसर पर प्रावीण्य सूची में स्थान प्राप्त विद्यार्थियों को गोल्ड, सिल्वर एवं ब्रांज मेडल तथा प्रमाण पत्र तथा डिग्री वितरित किये गए। सुश्री उइके ने उपाधि और मेडल प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को उनके स्वर्णिम भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी।राज्यपाल ने  कहा  कि दीक्षांत समारोह एक शिक्षण संस्थान के कैलेंडर में एक विशेष दिन है। यह सीखने के एक चरण की परिणीति का प्रतीक है और इस बात से संतुष्ट होने का भी कि विद्यार्थी अब दुनिया का सामना पूरी योग्यता और क्षमता से करने को तत्पर हैं।

राज्यपाल ने ओ.पी. जिंदल विश्वविद्यालय रायगढ़ को उनके उपलब्धियों तथा ऑनलाईन दीक्षांत समारोह के लिए शुभकामनाएं दी।
राज्यपाल ने विद्यार्थियों के अभिभावकों को बधाई देते हुए कहा कि आज का दिन आपके माता-पिता के लिए भी आनंद का दिन है, जिन्होंने आपको शिक्षित करने में काफी मेहनत की है।

ओ.पी. जिंदल विश्वविद्यालय के संरक्षक एवं जिंदल स्टील एवं पावर लिमिटेड के अध्यक्ष नवीन जिंदल ने कहा कि विश्वविद्यालय के 718 स्नातक और स्नातकोत्तर विद्यार्थियों के लिए आज गर्व का दिन है,जिन्होने आज डिग्री हासिल की।उन्होने    विद्यार्थियों को उज्जवल भविष्य के लिए शुभ कामनाएं देते हुए कहा कि आप आगे बढ़े और राष्ट्र एवं समाज के लिए बड़ा काम करे। इस अवसर पर आई.आई.टी. भुवनेश्वर के निदेशक आर.वी.राजा कुमार, छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के अध्यक्ष डॉ.शिववरण शुक्ला, विश्वविद्यालय के कुलाधिपति प्रवीण पुरंग भी उपस्थित थे।