Thursday , December 1 2022
Home / MainSlide / मोदी ने राजनीति से परिवारवाद,भ्रष्टाचार एवं तुष्टीकरण को किया खत्म – शाह

मोदी ने राजनीति से परिवारवाद,भ्रष्टाचार एवं तुष्टीकरण को किया खत्म – शाह

(फाइल फोटो)

रायपुर 27 अगस्त।गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राजनीति से परिवारवाद, भ्रष्टाचार एवं तुष्टीकरण का खात्मा कर दिया है।

श्री शाह ने आज यहां मोदी @ 20 किताब पर आयोजित परिचर्चा में कहा कि यह तीनों भारतीय राजनीति के नासूर थे।उन्होने कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक की यात्रा में श्री मोदी ने आम लोगो की जिन्दगी में बदलाव लाने के लिए काम किया।इस कारण लोगो का असीम प्यार एवं स्नेह उनके साथ है।उनमें किसी को गरीबों का कल्याण करने वाला सेवक,तो किसी को देश का रक्षक,किसी को तपस्वी और किसी को विश्वमंच पर भारत का गौरव बढ़ाने वाला भारत माता का पुत्र दिखता हैं।

उन्होने कहा कि मोदी के बारे में 25-30 मिनट में बात कर पाना आसान नही है। उनका जीवन बहुत ही प्रेरणादायी है।चाय बेंचकर शिखर पर पहुंचे श्री मोदी ने गरीबी को स्वयं भोगा हैं।इस कारण उन्होने लोगो के जीवन में बदलाव लाने के लिए प्रधानमंत्री बनने के बाद तेजी से काम करना शुरू किया।वह योजनाओं को तैयार करने और उसका लाभ निचले स्तर तक पहुंचना सुनिश्चित करने के प्रति बहुत ही जिद और जुनून के साथ काम करते हैं।

श्री शाह ने कहा कि श्री मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद करोड़ो गरीबो के जीवन में बदलाव आया हैं।इस समय करोड़ो लोग ऐसे थे जिनके पास गैस कनेक्शन नही थे,बैंक खाते नही थे,स्वास्थ्य सुविधाएं नही थी शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाएं नही थी लेकिन आज स्थिति भिन्न हैं।उन्होने कहा कि पहले गरीबी हटाओं के नारे ही केवल दिए गए लेकिन वास्तव में गरीबी हटाने का काम मोदी ने किया।गांधी परिवार का नाम लिए बगैर श्री शाह ने कहा कि देश का परिवारवाद ने बहुत नुकसान किया,श्री मोदी ने इसका खात्मा किया।भाजपा में परिवारवाद नही चलता।

उन्होने कहा कि मोदी ने जब सत्ता संभाली तब राजनीतिक क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार से देश में एक निराशा का माहौल था,आज विपक्षी भी भ्रष्टाचार का आरोप ढूढ़कर भी नही लगा पाते।तुष्टीकरण भी एक फैशन बन गया था लेकिन यह भी खात्मे की ओर है।इस मौके पर भाजपा उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह समेत बड़ी संख्या में भाजपा नेता एवं कार्यकर्ता मौजूद थे।