Monday , April 15 2024
Home / MainSlide / सभी वर्ग के लोगों की भलाई के लिए कार्य कर रही छत्तीसगढ़ सरकार – खड़गे

सभी वर्ग के लोगों की भलाई के लिए कार्य कर रही छत्तीसगढ़ सरकार – खड़गे

रायगढ़ 04 अक्टूबर।कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि छत्तीसगढ़ में गरीब, किसान, मजदूर, महिला, आदिवासी, युवा तथा वंचित व कमजोर वर्ग सहित बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक सबके हित में बखूबी काम हो रहा है।

    श्री खड़गे ने आज यहां छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आयोजित भरोसे के सम्मेलन में कहा कि यहां राज्य सरकार ने आम लोगों की जरूरत को समझकर योजनाएं बनाई। इन योजनाओं से लाखों-करोड़ों हाथों को काम मिल रहा है। उन्हें सुगमता से रोजगार उपलब्ध हुए हैं और उनकी आय में भी बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विपरीत परिस्थितियों में भी छत्तीसगढ़ के विकास का काम कभी नहीं रोका।

   उन्होने मणिपुर में जारी हिंसक घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को आड़े हाथो लेते हुए कहा कि चुनावी राज्यों में एक रैली कम करके श्री मोदी को मणिपुर जाना चाहिए। छह माह से अधिक समय हो गया है,राज्य हिंसा की आग में जल रहा है। महिलाओं को निर्वस्त्र कर उन्हे मारा गया हैं।मणिपुर भी देश का हिस्सा है।देश के किसी राज्य में स्थिति इतनी खराब हो और देश के लोग वहां के हालात पर चिन्ता कर रहे हो, उस पर प्रधानमंत्री का चुप्पी साधे रहना आश्चर्यजनक है।

     उन्होने आरोप लगाया कि मोदी का चुप्पी की वजह से वहां हिंसा और अशान्ति चल रही है।वह हिम्मत हार चुके है,अगर उनमें हिम्मत है तो जाकर वहां की समस्या को उऩ्हे सुलझाना चाहिए।श्री खड़गे ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दौरा किया ,बाद में 21 सांसदों के दल ने दौरा किया फिर प्रधानमंत्री वहां क्यों नही जाते।उनके पीछे तो सुरक्षा का बहुत बड़ा तंत्र साये की तरह रहता है। उन्होने कहा कि आप डर रहे हो ,इसलिए नही जा रहे हो। 

    कांग्रेस को आउटसोर्सिंग के कल मोदी के लगाए आरोप का जिक्र करते हुए उन्होने पलटवार करते हुए कहा कि सच्ची तो यह हैं कि भाजपा की आउटसोर्सिंग अडानी और बड़े बड़े लोगो को कर दी गई है,वह भाजपा को चला रहे है।हम तुम्हारे जैसे आउटसोर्सिंग करने वाले लोग नही है।लोकतंत्र के तहत सबको साथ लेकर चलना पड़ता है।दो लोग सरकार चला रहे है। मोदी निर्णय लेते है और अमित शाह उसे क्रियान्वित करते है।सरकार में किसी और को कुछ पता नही होता।

     उन्होने कहा कि विपक्षी मुख्यमंत्रियों से मोदी ने उनके राज्य की जरूरतों और समस्याओं पर कभी चर्चा की जरूरत नही समझी,और बड़ी बड़ी बाते करते है।राज्य सरकारों को मदद करने की बजाय उल्टे उन्हे धमकाते रहते है कि हमारी बाते सुनों नही तो ईडी,आईटी,विजिलेंस,सीबीआई भेज देंगे।जब इन एजेन्सियों से सरकार चलाना है तो फिर आपकी क्या जरूरत है।

    श्री खड़गे ने कहा कि जहां भी श्री मोदी जाते है वहां झूठ बोलकर आते है।छत्तीसगढ़ ए तो सहां झूठ बोला,राजस्थान,मध्यप्रदेश और तंलंगाना गए वहां भी झूठ बोलकर आए।..मैं नौ वर्षों से उनके झूठ को सुन रहा हूं,वह झूठों के सरदार हैं..।प्रति वर्ष दो करोड़ नौकरी,15 लाख सभी के खाते में आने,किसानों की आमदनी दूनी होने की बाते कहीं,एक झूठ हो तो ठीक है,वह तो झूठ पर झूठ बोलते है।

   श्री खड़गे ने कहा कि कांग्रेस ने जो 70 सालों में बनाया,मोदी उसको एक एक करके बेच रहे है। सार्वजनिक क्षेत्र के अच्छे अच्छे संस्थानों को खराब कर दिया गया है।उन्होने कल बस्तर के नगरनार  में शुरू हुए इस्पात संयंत्र के विनिवेश सूची में डाले जाने का जिक्र करते हुए कहा कि..निजी क्षेत्र में देंगे तभी उन्हे कुछ मिलेगा,अगर उसे सरकार चलायेंगी तो गरीब का फायदा होगा..।उन्होने कहा कि कांग्रेस ने मदद किया ,वह छीनते जा रहे है।दलित,पिछड़े,आदिवासी,गरीबों को इस बारे में सोचना चाहिए,पैसे वालों को कुछ फर्क नही पड़ता।  

   उन्होने कहा कि दिल्ली से लेकर गली गली घूम रहे है,जब आपके नाम से इतने वोट आते है तो फिर आपको हर राज्य में घूमने की क्या जरूरत है।कर्नाटक ,हिमाचल प्रदेश में गली गली घूमे लेकिन लोग उन्हे वोट देने को तैयार नही हुए।पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी इनकी हार तय है।दक्षिण के राज्यों में इनके दरवाजे पहले ही बन्द हो चुके है।उन्होने कहा कि सबसे ज्यादा राज्यों में गैर भाजपा विपक्षी दलों की सरकार हैं,अगर इनके पास जादुई छड़ी है और लोग इन्हे पसन्द करते है तो फिर इन राज्यों में भी भाजपा को सत्ता में होना चाहिए था।

   महिला आरक्षण को लेकर भी श्री खड़गे ने वाहवाही लूटने को लेकर सवाल उठाया और कहा कि पंचायतों और स्थानीय निकायों में किसने महिलाओं को आरक्षण दिया।भाजपा के लोगो ने ही महिला आरक्षण विधेयक को पूर्व में पारित नही होने दिया था।उन्होने कहा कि महिला आरक्षण को लेकर यह वाकई इमानदार है तो इसे तुरंत लागू किया जाना चाहिए। अभी 543 सीटों पर लागू करिए,जब जनसंख्या और परिसीमन होगा तो उसे उस अनुपात में बढ़ा दीजिएगा।लेकिन इनकी नियत ठीक नही है।